Causes of Acne: तनाव ही नहीं इन 5 कारणों से भी होते हैं मुहांसे, जानिये कैसे रखें अपनी स्किन को Acne Free

क्या आप नियमित रूप से मुहांसों से पीड़ित रहते हैं? अगर हाँ, तो आपने पहले से ही इस समस्या से राहत पाने के लिए अलग-अलग तरीकों से कोशिश की होगी। हालांकि, अगर आप वन-साइज फिट सोल्युशन ढूँढ रहे हैं तो ज्यादा सम्भावना है की यह काम नहीं करेगा। क्यों? ऐसा इसीलिए क्योंकि मुहांसे के कई कारण होते हैं और प्रत्येक कारण के लिए एक अलग समाधान जरुरी है। स्किन स्पेशलिस्ट डॉ. मेघा चतुर्वेदी ने इस आर्टिकल में इन अलग-अलग कारणों पर चर्चा की है। डॉ. मेघा चतुर्वेदी कहती हैं "मुहांसे त्वचा की सबसे आम बीमारी है। यह 85% किशोरों, 4% पुरुषों, और 51% महिलाओं को प्रभावित करती है।
मुहांसे शुरू में किसी छोटे दाने या उभार की तरह महसूस होते हैं। फिर धीरे-धीरे करीब 5-7 दिन में पकते हैं और पूरी तरह खत्म होने में करीब 10-15 दिन ले लेते हैं। इतने पर भी हमारे चेहरे या गर्दन पर निशान छोड़ जाते हैं, जो महीनों तक हमारी त्वचा पर बना रहता है। वाकई एक्ने ना केवल हमें शारीरिक दर्द देते हैं, बल्कि मानसिक दर्द भी देते हैं। ऐसे में इनसे बचने के तरीके जानना बेहद जरूरी हैं...
हमारे चेहरे पर पिम्पल्स उग आने की इकलौती वजह हमारा स्ट्रेस नहीं होता हैं। बल्कि हमारे पेट में जमा कब्ज, गड़बड़ाए हुए हॉर्मोन्स, और हमारे शरीर में मौजूद अन्य बीमारियां भी होती हैं। कई बार शरीर की अंदरूनी नहीं बल्कि स्किन प्रॉब्लमस के कारण भी हमें पिम्पल्स होते हैं।

मुहांसों की समस्याओं के पीछे के कारणों को जानने के लिए आगे पढ़ें -

1). सिर्फ स्ट्रेस नहीं है जिम्मेदार

स्ट्रेस भले ही मानसिक बीमारी है लेकिन पूरे शरीर और एनर्जी लेवल को प्रभावित करती है। इसीलिए यह कहा जाता है की स्ट्रेस से बचने के उपाये अपनाएं। स्ट्रेस के कारण हमारे शरीर से हैप्पी हॉर्मोन रिलीज़ होना कम हो जाता है। हमारे दिमाग को हैपी और रिलैक्स रखने में एंडोर्फिन और डोपामाइन नाम के हॉर्मोन्स मेन रोल प्ले करते हैं। लेकिन स्ट्रेस के कारण इन हॉर्मोन्स का बनना कम हो जाता है और हमारी बॉडी हॉर्मोनल डिस्बैलेंस का शिकार हो जाती है। और इसी के कारण हमारे चेहरे पर मुहांसे उग जाते हैं।

2). हार्मोनल बदलाव

आमतौर पर गर्भावस्था, माहवारी, स्तनपान, और बच्चे के जन्म के कुछ हफ़्तों बाद शरीर में हॉर्मोन तेजी से बदलते हैं। और यही कारण है की इस दौरान महिलाओं में मुहांसों की समस्या बढ़ जाती है। हार्मोनल बदलाव के कारण शरीर में पीएच का संतुलन बिगड़ जाता है और हमारी त्वचा में तेल का उत्पादन बढ़ जाता है, और फलस्वरूप मुहांसे निकलने शुरू हो जाते हैं। अगर पिम्पल्स निकलने का कारण हार्मोनल का असंतुलन है तो ऐसे में पिम्पल्स पर क्रीम या कोई घरेलू उपाए काम नहीं करेगा, ऐसे हालात में आप एक आयुर्वेदिक स्किन स्पेशलिस्ट से संपर्क कर सकते हैं।

3). पाचन सम्बन्धी समस्याएं

कई बार खान-पान ठीक न होने के कारण या पेट से सम्बंधित किसी दिक्कत के चलते हमें कब्ज की समस्या हो जाती है। और इसी कारण हमारे शरीर के विषाक्त तत्व बाहर नहीं निकल पाते। लेकिन, हमारी बॉडी किसी भी तरह का गार्बेज को अपने अंदर नहीं समेटती है और उसे बाहर निकालने का रास्ता खोज ही लेती है। कब्ज के कारण जो हार्मफुल एलिमेंट्स हमारी बॉडी के अंदर पनपते हैं, हमारा मेटाबोलिज्म उन्हें स्किन के रोम छिद्रों दवारा बाहर फेकने लगता है। इसी दौरान ये विषाक्त तत्व हमारी स्किन के पोर्स को बंद कर देते हैं और हमारी स्किन सांस नहीं ले पाती। कारणवश हमारी त्वचा में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं, जो पिम्पल्स के रूप में हमे नज़र आते हैं।

4). स्किन बैक्टीरिया

कुछ लोगों की स्किन बहुत ज्यादा सेंसिटिव होती है। अधिक सेंसिटिव स्किन वाले लोगों को पिम्पल्स, ब्लैक हेड्स, और वाइट हेड्स जैसी समस्याएं अधिक सताती हैं। और जिन लोगों की स्किन बहुत ज्यादा ऑयली या ड्राई होती है, उनकी स्किन पर भी एक ख़ास तरह का बैक्टीरिया एक्टिव रहता है, जो की पिम्पल्स की वजह बनता है। यदि आपके चेहरे, पीठ, और कन्धों पर लगातार पिम्पल्स पनप रहे हैं तो इसका कारण स्किन बैक्टीरिया हो सकते हैं। ऐसे में बहुत जरुरी है कि आप डॉ. मेघा चतुर्वेदी जैसे आयुर्वेदिक स्किन स्पेशलिस्ट से ट्रीटमेंट लें।

5). किसी अज्ञात दवाई का रिएक्शन

बॉडी पर कहीं भी और खासतौर पर चचरे पर उगते हुए पिम्पल्स की एक खास वजह किसी अज्ञात दवाई का रिएक्शन भी हो सकता है। कई बार हम एक बीमारी को ठीक करने के लिए कई प्रकार की दवाईयां लेते हैं, जो की हमारी उस बीमारी को तो ठीक कर देती है लेकिन उन दवाईयों की गर्मी के कारण या उनके रिएक्शन के कारण हमारे चेहरे पर पिम्पल्स निकलने लगते हैं। इसकी एक ख़ास वजह उन दवाइयों के कारण डिस्टर्ब हुआ डायजेस्टिव सिस्टम भी हो सकता है। ऐसे में जरुरी है की डॉ. मेघा चतुर्वेदी जैसे आयुर्वेदिक स्किन स्पेशलिस्ट से जरूर संपर्क करें।

मुहांसों का परमानेंट आयुर्वेदिक इलाज - Dr. Health

ऐसे में इन परेशानियों से बचने के लिए हमें आयुर्वेदिक इलाज की ओर रुख लेना चाहिए। आयुर्वेद में मुहांसों की परेशानियों को दूर करने के कई बेहतरीन उपाए हैं, जिससे आपकी स्किन से न सिर्फ कील मुहांसे दूर होंगे बल्कि कई अन्य समस्याएं भी दूर होंगी। डॉ. मेघा चतुर्वेदी आर्य़ुवेद द्वारा सुझाए गए कुछ घेरलू उपाय और हर्बल दवाइयां लेने का सुझाव देती हैं, जिन्हें अपनाकर आप मुंहासों को बाय बाय कर सकते हैं।

Author Name:  Kanika Girdhar

Get Free Consultation Now

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top